विचार मंथन

Share your thought with all to make change in the World

21 Posts

112 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17555 postid : 779266

आचार्य चाणक्य के द्वारा दिया गए सफलता के मंत्र

Posted On: 1 Sep, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

7104032-human-hands-and-key-isolated-on-white-backgroundआचार्य चाणक्य वैसे तो अपनी अर्थशास्त्र निति और कठिन प्रतिज्ञा के लिए जाने जाते है, अगर आप  उनकी लिखी गई शोलोक को पढ़े तो समझ सकते है उन सभी में जीवन दर्शन का गहरा रहस्य छुपा है जो वर्तमान समय में भी प्रासंगिकता रखता है,विद्या ग्रहण और उपयोगिता पर चाणक्य के विचार को समझे


1.विद्या एक गुप्त धन है इस से हर एक वस्तु प्राप्त की जा सकती है,विदेश में विद्या माँ के सामान रक्षा करती है पिता के सामान हितकारी है,चारो दिशा में कीर्ति फैलती है,धन की प्राप्ति करती है इसे जितना खर्च करते है उतना ही यह बढ़ जाती है इसलिए हर मनुष्य को विद्या प्राप्त करनी चाहिए


2.अभ्यास के बिना शास्त्र विष के सामान है अर्थात् किसी काम का नहीं ज्ञान को उपयोगी और हमेशा नयी बनाए रखने के लिए अभ्यास करना चाहिए

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Lynell के द्वारा
October 17, 2016

That’s really thkniing of the highest order


topic of the week



latest from jagran